Hanuman Chalisa

Hanuman Chalisa – English, Hindi, Lyrics, Mp3, Video

संकट हरै मिटै सब पीरा ।
जो सुमिरै हनुमत बल बीरा ॥

अर्थात: हे वीर हनुमान जी! जो आपका सुमिरन करता रहता है, उसके सब संकट कट जाते है और सब पीड़ा मिट जाती है।


जै जै जै हनुमान गोसाई ।
कृपा करहु गुरुदेव की नाई ॥

अर्थात: हे स्वामी हनुमान जी! आपकी जय हो, जय हो, जय हो! आप मुझ पर कृपालु श्री गुरु जी के समान कृपा कीजिए।


जोह शत बार पाठ कर जोई ।
छुटहि बन्दि महासुख होई ॥

अर्थात: जो कोई इस हनुमान चालीसा का सौ बार पाठ करेगा वह सब बंधनों से छूट जाएगा और उसे परमानन्द मिलेगा।


जो यह पढै हनुमान चालीसा ।
होय सिद्धि साखी गौरीसा ॥

अर्थात: भगवान शंकर ने यह हनुमान चालीसा लिखवाया, इसलिए वे साक्षी है, कि जो इसे पढ़ेगा उसे निश्चय ही सफलता प्राप्त होगी।


तुलसीदास सदा हरि चेरा ।
कीजै नाथ हृदय महँ डेरा ॥

अर्थात: हे नाथ हनुमान जी! तुलसीदास सदा ही श्री राम का दास है। इसलिए आप उसके हृदय में निवास कीजिए।


पवनतनय संकट हरन,
मंगल मूरति रूप ।
रामलखन सीता सहित,
हृदय बसहु सुरभूप ॥

अर्थात: हे संकट मोचन पवन कुमार! आप आनंद मंगलों के स्वरूप हैं। हे देवराज! आप श्री राम, सीता जी और लक्ष्मण सहित मेरे हृदय में निवास कीजिए।


अगले पृष्ठ पर अंग्रेजी में पढ़ें.

  •  
    288
    Shares
  • 288
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply