Loading...

  • ४९ - हनुमान जी का अशोक वाटिका में सीताजी को देकर दुःखी होना

    हनुमान् जी का अशोक वाटिका में सीताजी को देकर दुःखी होना और रावण का सीताजी को भय दिखलाना

    * जुगुति बिभीषन सकल सुनाई। चलेउ पवन सुत बिदा कराई॥
    करि सोइ रूप गयउ पुनि तहवाँ। बन असोक सीता रह जहवाँ॥3॥

    भावार्थ : विभीषणजी ने (माता के दर्शन की) सब युक्तियाँ (उपाय) कह सुनाईं। तब हनुमान्‌जी विदा लेकर चले। फिर वही (पहले का मसक सरीखा) रूप धरकर वहाँ गए, जहाँ अशोक वन में (वन के जिस भाग में) सीताजी रहती थीं॥3॥

    |0|0
    प्रथम सभी सामग्री सवाल कहानी संदेश भेजें 0 सूचनाएं 0 ऑनलाइन
    ४९ - हनुमान जी का अशोक वाटिका में सीताजी को देकर दुःखी होना