Loading...

  • १९६ - वानरगण कहने लगे- कृपालु आनंदकंद श्री रामजी की जय हो जय हो

    * सुनि प्रभु बचन कहहिं कपि बृंदा। जय जय जय कृपाल सुखकंदा॥
    तब रघुपति कपिपतिहि बोलावा। कहा चलैं कर करहु बनावा॥3॥

    भावार्थ:-प्रभु के वचन सुनकर वानरगण कहने लगे- कृपालु आनंदकंद श्री रामजी की जय हो जय हो, जय हो! तब श्री रघुनाथजी ने कपिराज सुग्रीव को बुलाया और कहा- चलने की तैयारी करो॥3॥

    |0|0
    प्रथम सभी सामग्री सवाल कहानी संदेश भेजें 0 सूचनाएं 0 ऑनलाइन
    १९६ - वानरगण कहने लगे- कृपालु आनंदकंद श्री रामजी की जय हो जय हो