Loading...

  • १८८ -समुद्र पार करने के लिए विचार

    दोहा :
    * प्रभु तुम्हार कुलगुर जलधि कहिहि उपाय बिचारि॥
    बिनु प्रयास सागर तरिहि सकल भालु कपि धारि॥50॥

    भावार्थ:-हे प्रभु! समुद्र आपके कुल में बड़े (पूर्वज) हैं, वे विचारकर उपाय बतला देंगे। तब रीछ और वानरों की सारी सेना बिना ही परिश्रम के समुद्र के पार उतर जाएगी॥50॥

    |0|0
Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश
Open In App