Loading...

  • श्री कृष्णा भगवान ने अर्जुन से कहा

    योगिनामपि सर्वेषां मद्गतेनान्तरात्मना।
    श्रद्धावान् भजते यो मां स मे युक्ततमो मतः॥६-४७॥

    सभी योगियों में भी जो श्रद्धावान योगी मुझमें लगे हुए अन्तरात्मा से मुझको निरन्तर भजता है, वह योगी मुझे श्रेष्ठतम मान्य है॥47॥

    |0|0
Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश
Open In App