Loading...

  • श्री कृष्णा भगवान ने अर्जुन से कहा

    बलं बलवतां चाहं कामरागविवर्जितम् ।
    धर्माविरुद्धो भूतेषु कामोऽस्मि भरतर्षभ ॥७- ११॥

    हे भरतश्रेष्ठ! मैं बलवानों का आसक्ति और कामनाओं से रहित बल अर्थात सामर्थ्य हूँ और सब भूतों में धर्म के अनुकूल अर्थात शास्त्र के अनुकूल काम हूँ॥11॥

    |0|0
Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश