Loading...

  • श्री कृष्णा भगवान ने अर्जुन से कहा

    नान्तोऽस्ति मम दिव्यानां विभूतीनां परन्तप ।
    एष तूद्देशतः प्रोक्तो विभूते-
    र्विस्तरो मया ॥१०- ४०॥

    हे परंतप! मेरी दिव्य विभूतियों का अंत नहीं है, मैंने अपनी विभूतियों का यह विस्तार तो तेरे लिए एकदेश से अर्थात्‌ संक्षेप से कहा है॥40॥

    |0|0
Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश
Open In App