Loading...

  • अर्जुन ने श्री कृष्णा भगवान से कहा

    अदृष्टपूर्वं हृषितोऽस्मि दृष्ट्वा भयेन च प्रव्यथितं मनो मे ।
    तदेव मे दर्शय देव रूपं प्रसीद देवेश जगन्निवास ॥११- ४५॥

    मैं पहले न देखे हुए आपके इस आश्चर्यमय रूप को देखकर हर्षित हो रहा हूँ और मेरा मन भय से अति व्याकुल भी हो रहा है, इसलिए आप उस अपने चतुर्भुज विष्णु रूप को ही मुझे दिखलाइए। हे देवेश! हे जगन्निवास! प्रसन्न होइए॥45॥

    |0|0
Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश