Loading...

  • श्री कृष्णा भगवान ने अर्जुन से कहा

    तेषामहं समुद्धर्ता मृत्युसंसारसागरात् ।
    भवामि नचिरात्पार्थ मय्यावेशितचेतसाम् ॥१२- ७॥

    हे अर्जुन! उन मुझमें चित्त लगाने वाले प्रेमी भक्तों का मैं शीघ्र ही मृत्यु रूप संसार-समुद्र से उद्धार करने वाला होता हूँ॥7॥

    |0|0
Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश