Loading...

  • श्री कृष्णा भगवान ने अर्जुन से कहा

    यावत्संजायते किंचित्-
    सत्त्वं स्थावरजङ्गमम् ।
    क्षेत्रक्षेत्रज्ञसंयोगा-
    त्तद्विद्धि भरतर्षभ ॥१३- २६॥

    हे अर्जुन! यावन्मात्र जितने भी स्थावर-जंगम प्राणी उत्पन्न होते हैं, उन सबको तू क्षेत्र और क्षेत्रज्ञ के संयोग से ही उत्पन्न जान॥26॥

    |0|0
Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश