Loading...

  • श्री कृष्णा भगवान ने अर्जुन से कहा

    सत्त्वं सुखे संजयति रजः कर्मणि भारत ।
    ज्ञानमावृत्य तु तमः प्रमादे संजयत्युत ॥१४- ९॥

    हे अर्जुन! सत्त्वगुण सुख में लगाता है और रजोगुण कर्म में तथा तमोगुण तो ज्ञान को ढँककर प्रमाद में भी लगाता है॥9॥

    |0|0
Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश
Open In App