Loading...

  • मोक्षसंन्यासयोगः अर्जुन उवाच

    मोक्षसंन्यासयोगः

    अर्जुन उवाच -
    संन्यासस्य महाबाहो तत्त्वमिच्छामि वेदितुम् ।
    त्यागस्य च हृषीकेश पृथक्केशिनिषूदन ॥१८- १॥

    अर्जुन बोले- हे महाबाहो! हे अन्तर्यामिन्‌! हे वासुदेव! मैं संन्यास और त्याग के तत्व को पृथक्‌-पृथक्‌ जानना चाहता हूँ॥1॥

    |0|0