Loading...

दाह संस्कार और कपाल क्रिया क्यों की जाती है?

.

अपना उत्तर यहाँ लिखें
  • Rajiv Sarmistha

    जब आत्मा शरीर को त्याग कर स्वर्ग की और प्रस्थान करती है तो उस आत्मा के सम्बन्धी शरीर को अग्नि देते हैं। इसे *अंतेष्टि* कहा जाता है। *अथर्ववेद* में अंतेष्टि के विषय में कहा गया है -
    *इमौ युनिज़्मी ते वह्नि असुनिताय वोधावे।
    तभ्यां यमस्य सादनम समितिश्चावा गच्छातात।।*

    इसका अर्थ है - हे आत्मा! तुम्हारी मुक्ति के लिए मैं तुम्हारे शरीर को अग्नि को समर्पित करता हूँ। इस अग्नि से तुम *सर्वनियन्ता* यम देव की शरण में चली जाओगी।

Other Posts

Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश
Open In App