Loading...

  • नवरात्री 2017 का अर्थ और उनके प्रकार

    Akash Mittal

    नवरात्री 2017 में 4 बार आएगी जिसमें से शरद नवरात्री का महत्व सबसे ज्यादा होता है।

    .

    .

    नवरात्री 2017 के 4 प्रकार -

    १. माघ नवरात्री - यह माघ के महीने में आती है। अंग्रेजी पंचांग के अनुसार जनवरी - फरवरी में ये नवरात्री आती है। इस नवरात्री का पांचवा दिन वसंत पंचमी कहलाता है। इस दिन माँ सरस्वती की पूजा की जाती है और उन्हें संगीत, कला, लेख से प्रसन्न किया जाता है। पतंग उड़ाने का भी बहुत महत्व होता है। कुछ जगह पर काम देव (प्रेम के देवता) को भी पूजा जाता है।

    .

    २. वसंत नवरात्री - यह वसंत महीने में आती है। अंग्रेजी पंचांग के अनुसार मार्च - अप्रैल में ये नवरात्री आती है। सर्दियों के बाद आने वाली इस नवरात्री का बहुत महत्व होता है।

    .

    ३. असाड नवरात्री - मानसून (बारिश) के शुरुआत में आने वाली इस नवरात्री को असाड नवरात्री कहते हैं। अंग्रेजी पंचांग के अनुसार ये जून-जुलाई महीने में आती है।

    .

    ४. शरद नवरात्री - यह नवरात्री सबसे महत्वपूर्ण होती है। पूरे भारत में इसे बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है। मानसून के बाद आने वाली इस नवरात्री को अंग्रेजी पंचांग के अनुसार सितम्बर-अक्टूबर में मनाया जाता है।

    .

    .

    नवरात्री का अर्थ होता है नौ रातें। अर्थात दुर्गा के नौ स्वरूपों का पूजन ही नवरात्री है। नवरात्री का विस्तृत वर्णन हम अगले लेख में करेंगे।

    ।। जय माँ दुर्गा ।।

    Download Image
    |8|1