Loading...

  • ध्यान द्वारा मन को शांत रखने के उपाय

    Akash Mittal

    ध्यान (Meditation) द्वारा मन को शांत रखना कोई कला नहीं अपितु प्रतिदिन स्मरण रख कर नियमित रूप से विधि को पूर्ण करना है। याद रखें कि ये जो आध्यात्म से जुडी चीज़ें होती हैं ये तभी अपना फल देती हैं जब आप इन्हे नियम समझ कर नहीं अपितु हृदय से पूर्ण करते हैं।

    .

    ये कुछ छोटी छोटी बातें हैं जिन्हे आपको रोज़ाना अपने जीवन में लाना चाहिए।

    .

    १. रोज़ 10 - 15 मिनट के लिए शांत बैठ कर ध्यान लगाएं। उस समय कुछ न सोचें। मुश्किल है पर प्रयत्न करें।

    .

    २. लम्बी साँसे लें। 100 - 150 बार। साँसे धीरे धीरे लें और कोशिश करें कि ये प्रक्रिया आप भोर (4-6 बजे के बीच) होने पर पूर्ण करें क्योंकि तब हवा ज्यादा प्रदूषित नहीं होती है। इस पूरी प्रक्रिया का आनंद लें।

    .

    ३. टहलने जाएँ। ये भी एक प्रकार का ध्यान है। हर कदम की हरकत को महसूस करें। उसका आनंद लें।

    .

    ४. ऐसा संगीत सुनें जो मधुर हो। जैसे की बांसुरी। उसमें खो जाएँ। आपकी सारी परेशानियाँ श्री कृष्णा अपने अंदर समा लेंगे।

    .

    ५. अनुलोम विलोम (नाड़ी शोधन) करें। इसमें पहले बाईं नथुने को बंद करके दायें नथुने से सांस लें, थोड़ा फेंफड़ों में रोकें और फिर दायें नथुने को बंद करके बायें नथुने से सांस छोड़ दें। ये प्रक्रिया अब नाक के दाएं नथुने के लिए करें। ऐसा कम से कम 10 बार करें। इससे आपकी सांस की नली खुल जाएगी और आपका मन शांत होगा। हमारे दिमाग को ऑक्सीजन की ज़रूरत होती है। जब उसे ऑक्सीजन नहीं मिलती तो वो शरीर में चिड़चिड़ापन और बेचैनी फैलाता है। अनुलोम विलोम से ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ जाती है और दिमाग शांत रहता है।

    Download Image
    |8|0