Loading...

  • मुसीबतों से दूर रहने के लिए शनिवार को काला रंग पहने

    शनिवार यानी कि शनि देव का बार। इस दिन का स्वामी शनि ग्रह है जिसे हम अंग्रेजी में सैटर्न (saturn) बोलते हैं। शनि देव को हमारे धर्म में बहुत ही क्रोधित रहने वाले देवता माना जाता है। उनका क्रोध जिस पर पड़ता है उसे बहुत दुःख झेलने पड़ते हैं। शनि देव की साढ़े साती होती है जिसमे जिसकी कुंडली में इसका दोष होता है वो साढ़े सात सालों के लिए बहुत कष्ट में रहता है। उसके हर काम बिगड़ते रहते हैं। जब साढ़े साती का अंत होता है तभी उसे कष्टों से मुक्ति मिलती है।

    शनिवार का शुभ रंग काले और नीले रंग का संगम है। शनि ग्रह आयु, रोग, क़र्ज़, बुरा कर्म, लोभ, लालच, क्रोध और पीड़ा के ऊपर राज करता है। ये विदेशी भाषा, कृषि व्यवसाय और तकनीकी अध्ययन को भी प्रभावित करता है।

    शनि को सिर्फ प्रसन्न ही नहीं करना होता है बल्कि हमें इनके प्रकोप से भी बचना होता है। काला रंग इन्हे प्रिय है और जब आप काले-नीले रंग के वस्त्र धारण करते है तो ये अपनी ऊर्जा से आपके अंदर शक्ति का संचार करते हैं जिससे आपकी आयु में वृद्धि होती है।

    शनि को प्रसन्न करने से आपको लोभ, लालच, पीड़ा, भय और क्रोध से भी मुक्ति मिलती है। यही वो गुण हैं जिनसे मनुष्य अपने और अपने परिवार के लिए मुसीबत उत्पन्न करता है। इन सभी चीज़ों पर विजय का मतलब है जीवन का सदगुण की तरफ बढ़ना।

    अगर आप बीमार रहते हैं या क़र्ज़ में डूबे हुए हैं तो शनि देव को प्रसन्न करें। अगर उन्हें क्रोध का देवता माना जाता है तो दूसरी ओर वे अपने भक्तों पर प्रसन्न भी अवश्य होते हैं।

    Loading Comments...

Other Posts

Krishna Kutumb
Blog Menu 0 0 Log In
Open In App