Loading...

  • खुश रहने के लिए रविवार को नारंगी रंग के वस्त्र पहने

    Akash Mittal

    रविवार यानी कि सूर्य का वार। सूर्य नवग्रह में सर्वोत्तम हैं। उन्ही के चारों और सभी ग्रह चक्कर लगते हैं। उन्ही की ऊर्जा से धरती पर जीवन है। सूर्य शनि देव के पिता हैं। जहाँ एक ओर शनि देव क्रोध के देवता हैं वहीँ सूर्य देव दानवीर हैं। पूरे सौर्यमंडल में अपना प्रकाश और ऊर्जा का दान करते हैं।

    सूर्य हमारी आत्मा, आत्मविश्वास, प्रतिष्ठा, स्वास्थ्य, मान और वीरता को सम्बोधित करते हैं। इसीलिए कर्ण, जो सूर्य के पुत्र थे, वो अत्यंत वीर, आत्मविश्वासी और दानवीर थे। अपने पिता के मान के लिए और अपने दान धर्म के लिए कवच और कुण्डल को दान दे दिया था।

    सूर्य को प्रसन्न करने के लिए उज्जवल रंग के वस्त्र पहनने चाहिए जैसे लाल, नारंगी और पीला। सूर्य के अधिकृत इस दिन पर चमकदार वस्त्र पहनने से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं। रोज़ सुबह जल चढाने से भी सूर्य की कृपा प्राप्त होती है।

    पीला या नारंगी रंग अपने आस पास धारण करने से हमारे अंदर आत्मविश्वास बढ़ता है। सूर्य की ऊर्जा हमारे मान और प्रतिष्ठा में वृद्धि करती है। हमारा स्वास्थ्य अच्छा रहता है और हमारी आत्मा पवित्र होती है।

    सूर्य हमारे पिता से संबंधों को भी निर्धारित करता है। सूर्य को प्रसन्न करने का अर्थ है पिता के साथ मधुर संबंधों को जाग्रत करना।

    Download Image
    |5|0