Loading...

  • करवा चौथ - करवा की कहानी

    करवा नाम की एक स्त्री अपने पति से बहुत प्रेम करती थी। वो बहुत पतिव्रता थी तथा अपने पति के लिए पूर्णतः समर्पित भी थी। उसकी अपने पति के लिए श्रद्धा और प्रेम के कारण उसमें शक्ति आ गयी थी।
    एक बार करवा का पति स्नान के लिए एक नदी पर गया। वहाँ उसे एक मगरमच्छ ने पकड़ लिया। यमराज उसके पति को लेने धरती पर आये परन्तु करवा ने मगरमच्छ को बाँध दिया और यमराज से कहा की वो उस मगरमच्छ को नरक में स्थान दें। यमराज ने ऐसा करने से मना कर दिया। तब करवा ने यमराज को श्राप देने की चेतावनी दी। यमराज जानते थे कि करवा बहुत पतिव्रता और पवित्र नारी है। उसके अंदर तप की शक्ति है। इस भय से यमराज ने उस मगरमच्छ को नरक में स्थान दिया और करवा को वरदान दिया कि उसके पति की लम्बी उम्र होगी।
    तब करवा अपने पति के साथ बहुत लम्बे समय तक विवाहित जीवन जीती रहीं। तब से करवा चौथ बड़े विश्वास और श्रद्धा से मनाया जाता है।

    Loading Comments...

Other Posts

Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश
Open In App