Loading...

  • राधेश्याम

    *बहुत सुन्दर भाव...👌🌸🍃🙏*

    ●●●●●●●●
    *"न अंदर मे हैं न बाहर मे !*
    *न आम मे हैं न खास मे हैं !!*
    *न विरक्त मे हैं न बिलासी मे !*
    *यदि प्रेम है तो प्रभु पास मे हैं !!"*
    ●●●●●●●●●●●
    *मन मथुरा और तन वृंदावन नयन बहे यमुना जल पावन.*

    *रोम रोम बसे है गोपी ग्वाला धडकन जपती निशिदीन माला.*

    *साँसो मे मुरली की सरगम प्राण तुम्ही हो ओ नंदलाला.*
    🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

    Loading Comments...

Other Posts

Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश
Open In App