Loading...

  • अनामिका में ही क्यों पहनाई जाती है शादी की अंगूठी ।

    Nitika Naveen Vashisht

    सगाई के दौरान लड़की- लड़का दोनों एकदूसरे की अनामिका उंगली में अंगूठी पहनाते हैं ।

    ये अंगूठी अनामिका में ही क्यूँ पहनी जाती है ?

    एक सुंदर प्रयोग बताता हूं..

    आप भी कर के देखें ......

    .

    .

    .

    बुद्धिजीवियों के अनुसार हमारे हाथ की दसों उंगलियां ये एक कुटुम्ब है ।

    .

    .

    .

    . हाथ के अंगूठे हमारे माता-पिता का प्रतीक हैं

    .

    .

    अंगूठे के पास वाली उंगली (तर्जनी) हमारे भाई-बहन की प्रतीक ।

    .

    .

    .

    .

    बीच की उंगली (मध्यमा) हम खुद

    .

    .

    .

    चौथी अनामिका...

    मतलब हमारा जोड़ीदार,

    .

    .

    और अंतिम सबसे छोटी उंगली (करंगली)

    हमारे बच्चे

    .

    .

    .

    ये हो गया कुटुंब

    अब देखते हैं कुटुंब के लोगों से हमारे संबंध कैसे ईश्वर ने स्थापित किये हैं

    .

    .

    .अब फोन को एक ओर रख दोनों हाथ नमस्कार मुद्रा में जोड़ें

    .

    .

    बीच की दोनों उंगली को अंदर की ओर fold कर हथेली से लगा लें ।

    अब दोनो अंगूठे एक दूसरे से दूर करे वो हो जाएंगे

    .

    .

    .कारण माता-पिता का साथ हमें जन्मभर नही मिलता, कभी न कभी वो हमें छोड़ कर जाते हैं ।

    .

    .

    अब अंगूठे छोड़ उसके पास वाली उंगली को खोलें

    वो भी खुलेगी

    कारण भाई-बहन का अपना परिवार है , उनका खुद का अपना जीवन है ।

    .

    .

    अब वो उंगलियां जोड़ हाथ के आखरिवाली सबसे छोटी उंगली को आपस मे खोलें

    .

    .

    वो भी खुलेंगी, कारण आपके बच्चे बड़े होने पर घोसला छोड़ उड़ान भरने ही वाले हैं ।

    .

    .

    .

    .

    छोटी उंगलियों को अब जोड़ लें

    .

    .अब अंगूठी वाली अनामिका को एक दूजे से दूर करे

    .

    .

    आश्चर्य होगा;

    पर वो दूर नही होती । कारण जोड़ीदार, मतलब पति-पत्नी, जीवनभर एक साथ रहने वाले होते हैं । सुख और दुःख में एक दूजे के जीवनसाथी.....

    "ये आयुष्य का सुंदर अर्थ

    अनामिका सिवाय सब व्यर्थ"

    Download Image
    |2|0
Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश