Loading...

  • माखन चोर की टोली

    एक बार की बात है भगवान अपनी टोली के साथ तैयार हुए।
    .
    भगवान के मित्र बने है सुबल, मंगल, सुमंगल, श्रीदामा, तोसन, आदि।
    .
    भगवान सोच रहे है की आज किसके घर माखन चोरी की जाये।
    .
    याद आया की “चिकसोले वाली” गोपी के घर चलते है।
    .
    भगवान पहुंच गए सुबह सुबह और जोर से दरवाजा खटखटाने लगे।
    .
    गोपी ने दरवाजा खोला। तो श्रीकृष्ण को खड़े देखा। बाल बिखेर रखे थे, मुह पर उबासी थी।
    .
    गोपी बोली – ‘अरे लाला ! आज सुबह-सुबह यहाँ कैसे ?
    .
    कन्हैया बोले – ‘गोपी क्या बताऊँ ! आज सुबह उठते ही, मैया ने कहा लाला तू चिकसोले वाली गोपी के घर चले जाओ....
    .
    और उससे कहना आज हमारे घर में संत आ गए है मैंने तो ताजा माखन निकला नहीं,
    .
    चिकसोले वाली गोपी तो भोर में उठ जावे है। ताजो माखन निकल लेवे है। तू उनसे जाकर माखन ले आ।
    .
    और कहना कि एक मटकी माखन दे दो, बदले में दो मटकी माखन लौटा दूँगी।
    .
    गोपी बोली – लाला ! मै अभी माखन की मटकी लाती हूँ और मैया से कह देना कि लौटने की जरुरत नहीं है संतो की सेवा मेरी तरफ से हो जायेगी।
    .
    झट गोपी अंदर गयी और माखन की मटकी लाई और बोली – लाला ये माखन लो और ये मिश्री भी ले जाओ।
    .
    कन्हैया माखन लेकर बाहर आ गए और गोपी ने दरवाजा बंद कर लिया।
    .
    अब भगवान ने अपने सभी दोस्तों को बुलाया है और कहते है आओ आओ श्रीदामा, मंगल, सुबल, जल्दी आओ,
    .
    सब-के-सब झट से बाहर आ गए भगवान बोले,” जिसके यहाँ चोरी की हो उसके दरवाजे पर बैठकर खाने में ही आनंद आता है, और वो चोरी भी नहीं कहलाती है।”
    .
    झट सभी गोपी के दरवाजे के बाहर बैठ गए, भगवान ने सबकी पत्तल पर माखन और मिश्री रख दी। और बीच में स्वयं बैठ गए।
    .
    सभी सखा माखन और मिश्री खाने लगे।
    .
    माखन के खाने से होंठो की पट पट और मिश्री के खाने से दाँतो के कट-कट की आवाज जब गोपी ने सुनी तो सोचा ये आवाज कहाँ से आ रही है, कोई बंदर तो घर में नही आ गयो है।
    .
    जैसे ही उसने दरवाजा खोला तो सारे मित्रों के साथ श्रीकृष्ण बैठे माखन खा रहे थे।
    .
    गोपी बोली – ‘क्यों रे कन्हैया ! माखन संतो को चाहिए था या इन संड -भुसंडान को।
    .
    भगवान बोले देख गोपी गाली मत दीजो। ये भी संत है, साधु है। और तो और नागा साधु है किसी के तन पर कोई वस्त्र तक नहीं है।
    .
    तुझे तो इनको प्रणाम करना चाहिए और वो भी दंडवत (लेट कर)।
    .
    गोपी बोली अच्छा अभी दण्डोत करती हूँ। एक डंडा ले आउ फिर अच्छे से डंडे से दण्डोत करुँगी।
    .
    भगवान बोले सबको बेटा माखन बहुत खा लिए है अब पीटने का नंबर है। भागो सभी अपने-अपने घर को।
    .
    इस प्रकार भगवान ब्रज में सुन्दर लीला कर रहे है और सबको अपने रूप मधुरए से सराबोर कर रहे है।
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    (((((((((( जय जय श्री राधे ))))))))))
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

    Loading Comments...

Other Posts

Krishna Kutumb
ब्लॉग सूची 0 0 प्रवेश
Open In App